सुप्रभात

44 Posts

46 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6146 postid : 1144837

नेता बनने का मिलेगा अवसर ‘मोदी के साथ वतन को दो गाली’ लुच्चे थपथापायेंगे आपकी पीठ

  • SocialTwist Tell-a-Friend

kanhiyaएक अंग्रेज अपनी आत्म कथा में लिखता है – “भारत को गुलाम बनाने के लिए जब हमने पहला युद्द किया और जीतने के बाद हम जब विजय जुलुस निकाल रहे थे, तब वहाँ मौजूद भारतीय जुलुस देख कर तालीया बजा रहे थे, अपने ही देश के राजा के हारने पर वे प्रसन्नता से हमारा स्वागत कर रहे थे, आगे अंग्रेज़ लिखता है अगर वहाँ मौजूद सब भारत वासी मिलकर उसी समय हम लोगो को सिर्फ एक-एक पत्थर उठाकर ही मार देते तो, भारत सन् 1700 में ही स्वतंत्र हो जाता , उस समय हम अंग्रेज सिर्फ 3000 थे” आज भी कुछ गद्दार देशद्रोही भारत वासी सुधरे नहीं है, ना इतिहास से सबक सीखा, हालत वही है.
केजरीवाल की तरह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में एक और बीमारी आ गई है – कन्हैया. भारत में नेता बनने का अवसर ऐसे मिलेगा मोदी जी के साथ वतन को गाली दो लुच्चे आपकी पीठ थपथापायेंगे. कन्हैया ने कहा है कि कश्मीर में भारतीय सेना कश्मीरी महिलाओं के साथ बलात्कार करती है. सेना पर इतना बडा इलजाम लगते हुए इस नीच की जुबान जरा भी अटकी नहीं. हमे दुख है कि जिस आर्मी के जवान अपनी जान पर खेलकर कन्हैया जैसे लोगों की देश में रक्षा कर रहे है ये उन्ही को बदनाम करके देश का होरो बनना चाहता है. कुछ लोगों को मीडिया में बने रहने की महारत मिली होती है, इस तरह देश को मिला एक और केजरीवाल, पहले वाले को स्वराज चाहिए था और दूसरे को आजादी.

“पति मर जाए तो चिंता नहीं, लेकिन सौतन विधवा हो जाए” बस यही हालत है विपक्षी दलों और सेक्यूलरों की, भले ही देश टूट जाए लेकिन मोदी सरकार चली जाए. कठोर मगर लचीला संविधान होने की वजह से कन्हैया जैसी बीमारियां जन्म लेती है जो कैसे भी करके मीडिया में बने रहना चाहते है ताकि देशहित के मुद्दो से जनता भटकती रहे. कन्हैया जिस संगठन से जुड़ा है वह (C.P.I.) अर्थात् Communist Party Of Indira है. इन्दिरा जी ने JNU का उपयोग पूर्ण रूप से भारत की Communist Parties को अपने पक्ष में साधने के लिये किया था यह परंपरा अब तक चली आ रही थी परंतु मोदी सरकार में इस पर रोक लगा दी गयी. यह कान्ग्रेस तथा अन्य दलों के बेचैनी का कारण बन गया और कन्हैया पर राजनीति शुरू हो गयी है जनता समझदार है वह सब कुछ जानती है.

कन्हैया अपनी प्रोफेसर से आज़ादी की चर्चा करते हुए।

कन्हैया अपनी प्रोफेसर से आज़ादी की चर्चा करते हुए।

कन्हैया जैसे लोगों को न घर की चिन्ता होती है और न ही देश की, बस चंद लोगों और चैनल पर खुद को अक्लमंद दिखाने के लिए अपने घर और देश की नुमाइश लगाने वाले कभी भी देशहित में नहीं सोच सकते हैं,, और जो राजनेता साथ दे रहे हैं वो तो और भी पथभ्रष्ट हो सकते हैं, क्योंकि वोटबैंक के लिए भारत के महानतम राजनेता भारत की जनता को बेवकूफ़ बनाने में लगे रहते हैं ढकोसलेबाज लोगों को खुद ही समझ में आ जाना चाहिए कि ये देश उनकी बपौती नहीं है कि जब चाहे तब प्रयोग करने में लग गए. भविष्य में ऐसे लोगों को कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है और सरकार को भी सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है ताकि ऐसे लोग देश का नाम न खराब कर सकें.

कन्हैया जैल से आने के बाद बोल रहा है की मै भूख से लड़ रहा हु बेरोजगारी से लड़ रहा हु तो ये सब पिछले 18 महिने मे ही आया है क्या ? पछले 60 सालो से देश सोने की चिड़िया बना हुवा था क्या । सिर्फ मोदी जी के आने से ये हो रहा है क्या ? जो लोग सत्ता से वंचित हो गए है उन्होंने कभी ये देखा नहीं वो सह नहीं पा रहे, कन्हैया उन्ही लागो के हाथ का खिलौना है. राष्ट्रवादीयों को इसे महत्व नहीं देना चाहिये.

हमारे उग्र सेकुलर पत्रकार स्वयं जानते हैं कि उनके काम में पत्रकारिता कम हिन्दुत्व विरोधी मिशन अधिक है. इस धुन में वे अपना देश, धर्म सब भूल गए हैं. मिडिया और अकादमिक संस्थानों में छाई इस हिन्दू विरोधी प्रवृत्ति ने स्वतन्त्र (जनतन्त्र) को सबसे अधिक हानि पहुँचाई है. जब JNU में देश विरोधी नारे लगे थे तब अमेरिका ने भारत को घेर लिया था, बहुत सवाल-जवाब किये थे भारत से, भारत की छवि विश्व बिरादरी में कुछ यूँ बनायी कि भारत में छात्रों को दबाया जा रहा है, अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंटा जा रहा है, इससे पूरी दुनिया में भारत की बड़ी थू-थू हुयी थी.

वर्तमान में देश की हालत देखते हुए एक लघु कथा इस ब्यवस्था पर एक दम सटीक बैठती है. एक बार राजा को अभीमान हो गया कि मेरे देश मे कोई द्रोही नही हैं ,सब सही है. मुझे सबको और सुविधाऐ देना चाहिये. ये बात जाकर गर्व से गुरू को सुनाई. गुरू समझ गये. कुछ देर बाद वे घूमते हुए एक गोबर का उपला जो की दिखने में उपर से ही आधा सूखा था राजा को दिया.
राजा से पूछा – हे राजन ! ये थेपला उपर से कैसा है पर अंदर सूर्य रूपी ताप नहीं पहूँचा है.
राजा बोले – साधारण है गुरूदेव.
गुरू फिर बोले – कहीं ऐसा तो नहीं कि ताप नही लगने देने से उपला को ही नुकसान पहूंच रहा हो ?
राजा कहने लगे – ये कैसे संभव है गुरूदेव ?
बोले – पलट के देखो ?
जैसे ही राजा ने उपले को पलटा, देखा अंदर जो गीला भाग है वहां कुछ कीड़े कुलबुला रहे थे. और उसे ही खा रहे थे.
राजा ने गुरू की तरफ इस क्रिया का औचित्य जानने की दृष्टी से देखा ?
तो गुरू बोले – है राजन. आपके राज्य का भी यहीं हाल हो सकता है अगर सुविधा वाले को और सुखी करोगे. वे ही तुम्हारा नुकसान करेगे. ताप हरेक को बराबर मिलना चाहीये तो सही है तो सही रहता है. जिस प्रकार इसे पलटा और कीड़े कुलबुलाते पाये, जाओ, अपने राज्य मे भी वही करो, जो ज्यादा सुविधा पा रहा है ताप उसे भी दो, वरना वो ही तुम्हे खायेगा.

जिस प्रकार हम अपना घर बंनाने के लिए मजदूर और मिस्त्री चुनते है खुद हर काम को देखते है हर सामान देख कर लाते है सुरक्षा की हर बात को ध्यान मैं रखते है वैसे ही देश भी हमारा घर है जिसके लिए नेता चुनना, देश की सुरक्षा और हमारे पैसे का सही उपयोग करने वाला अच्छा नेता चुनना उसकी राजनीती करने का ढंग देखना जरूरी है. इसलिए अगर हम अपने घर बनाने के लिए समय निकाल सकते है तो देश बनाने के लिए भी समय निकालना ही पड़ेगा और राजनीती को ध्यान से देखना ही पड़ेगा ये काम हम किसी ऐसे लोगो के हाथ मैं नहीं दे सकते जो विदेशो से संचालित होते है.

कन्हैया जैसे पथभ्रष्ट छात्रों के कारण भारत की छवि धूमिल हो रही है. भारत में जन्म ले कर भारत का अन्न जल खा पीकर यह नमूना कुछ ओछी राजनीति करने वालों के हाथों की कठपुतली बना हुआ है और अपने से ही खुश हो रहा है और सब पर कीचड़ उछाल रहा है, मुफ्त में पढ़ने को मिल रहा है पर जल्दी ही यह अपने अंजाम तक पहुँचेगा और मुँह के बल नीचे गिरेगा जो लोग इसे चने के पेड़ पर चढ़ा रहे हैं वो ही इस नमूने को नीचे भी गिराएगे इस में कोई शक नही.



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
March 11, 2016

आशीष जी काफी प्रभावशाली लेख के लिए साधुवाद ! कन्हैया जैसे निष्क्रिय पथ भ्रष्ट जिनको सरकारी खर्चे पर मुफ्त का खाना, रहन सहन, पढ़ाई मिल गयी, खाली दिमाग शैतान का घर, मदद देने वाले, इंद्रा गांधी जी का पोता अर्धविकसित, नीतिसकुमार ! वो नीतीश कुमार जिसने कुछ दिन पहले आतंकवाद से लड़ते हुए एक नव जवान कैप्टेन के शव को तिरंगे में लिपटे एयर पोर्ट पर सैना के वायुवान से प्राप्त किया था, जिसने मातृ भूमि के लिए अपनी जवानी देदी, आज ‘भारत को बरबाद करने, टुकड़े टुकड़े करने वाले, पाकिस्तान जिन्दावाद कहने वाले नारे लगाने के लिए कन्हैया की पीठ ठोक रहा है ! केवल मोदी जी से बैर भाव दिखाने के लिए ! नीतीश, लालू, केजरीवाल, राहुल-सोनिया, शत्रुघ्न सिन्हा, एसपी, बीएसपी, साम्यवाद, ममता,अपना जीवन मोदी से भयभीत होकर ऐसे गुजार देंगे, मोदी जी का बाल भी बांका नहीं कर पाएंगे ! क्योंकि ये सब सरकारी खाजेन पर हाथ साफ़ करते हैं, मोदी जी अपना वेतन भत्ता गरीबों को दान कर देते हैं, उन्हें वो भी बड़ी मानसिक शक्ति मिलती है ! मोदी जी सबसे दोस्ती का हाथ बढ़ा रहे हैं ! मोदी जी लगे रहो हम आपके साथ है ! हरेन्द्र जागते रहो !

rameshagarwal के द्वारा
March 10, 2016

जय श्री राम आशीष जी लार्ड मैकाले ने गर्व से कहा था की हमने जो शिक्षा पद्धति लगी उसके बाद भारतीय अपनी संस्कृति,धर्म,अपनी उपलब्धियो को भूल कर नफरत करने लगेगे और हमारे जाने के सैकड़ो सालो तक हमारे गुण गायेंगे.यही हो रहा नेहरूजी ने शिक्षा इतिहास वाम लोगो के हाथ छोड़ दिया जिसका फल हम भुगत रहे जो हिन्दू और देश विरोध में और आगे अंग्रेजो से भी ज्यादा हो गए.कुर्सी के लालच में कांग्रेस,नितीश,लालू,केजरीवाल ममता देश को भी बेच दे और हमारे इंग्लिश मीडिया और कुछ टीवी चैनेलो को मोदी विरोध की वजह से देश की भी चिंता नहीं जिन्होंने कन्हैया ऐसे राष्ट द्रोही को भी हीरो बना दिया अमेरिका ब्रिटेन जो हम पर उंगली उठा रहे वहां पर ये संभव नहीं जो जनु में हो रहा.मोदीजी के बॉस अब अदालतों पर हमला होगा देश को अस्थिर करने में विदेशी साजिस में देशी लोग शामिल हो गए इसीलिये कश्मीर में आतंकवादियो के ज़नाज़े में इतनी भीड़ उमरती जैसे कोइ राज नेता मारा हो देश की हालत बहुत ख़राब है आपके सुन्दर लेख के लिए बधाई यहाँ पर भी लोग प्रतिक्रिया देने में भी परहेज़ करते क्या ये स्वार्थता नहीं?

    Ashish Shukla के द्वारा
    March 10, 2016

    जय श्री राम रमेश जी कन्हैया बनाम जेएनयू से जो देश का नुकसान हो रहा है उससे एक तरफ चिंता भी होती है तो दूसरी तरफ गुस्सा भी आता है. खैर उत्साह बढ़ाने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.


topic of the week



latest from jagran