सुप्रभात

44 Posts

46 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6146 postid : 98

जिन्दगी हर पल एक - शिक्षा

Posted On: 14 Nov, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कदम कदम पर इसंान को शिक्षा के स्तर से गुजरना होता है। पहली शिक्षा मॉ के ऑचल से प्रारंभ होती है। जिसमें वह चलना – फिरना, बोलना सिखता है। दूसरी शिक्षा बड़े बुजुर्गो से मिलती है जो इंसान को रीति – रिवाज से परिचत करवाती है, और वहीं से हम ‘‘परंपरा निभाने‘‘ जैसे शब्द से परिचित होते है। तीसरी शिक्षा हमे ‘‘प्रायमरी स्कूल‘‘ मे मिलती है, जो इंसान को घर – परिवार, रिश्ते – नाते से परिचित करवाती है।

चौथी शिक्षा हमे हाईस्कूल से मिलती है, जो इंसान को देश- दुनिया से परिचित करवाती है। शिक्षा के पॉचवें स्तर पर वह देश दुनिया के प्रति जागरूक होता है। और छठवा आता है, ‘‘बैचलर स्तर‘‘ जिसमे इंसान स्वयं अपने कार्यक्षेत्र के प्रति जागरूक होता है। और एक दिन जारूकता इंसान को उसके कार्यक्षेत्र मे ‘‘मास्टर‘‘ बना देती है।

शिक्षा के इन स्तरो से गुजरने के बाद इंसान पूर्णतः शिक्षित माना जाने लगता है। अब उसकी अगला कदम उस जगह पर होता है जहॉ पर वो एक जिम्मेदार इंसान कहलाने का हकदार होता है। वह कदम है, अपनी जिन्दगी की रेस मे शामिल होने का, यहॉ उसे पुनः एक बार एहसास होता है, मॉ के उस ऑचल का जहॉ से उसने चलना और बोलना सीखा था। अर्थात ‘‘गिरना और गिर कर सम्हलना, और फिर उठ खड़े होना‘‘ बस जिन्दगी का यही एक मकसद होता है ‘‘शिक्षित होकर सम्हल जाना और फिर परिवार को सम्हालना‘‘।

गिरना और उठना ये दो पहलू ही इंसानी इरादो को मजबूत बनाते है। क्योकि गिरना यानि कि नुकसान, और उठना यनि की फायदा। इन दोनो पहलू मे से हर इंसान को गिरने का डर हमेशा बना रहता है, और उठने की खुशी हमेशा महसूस करता रहता है। लेकिन जरूरी नही कि अपने स्तर से उठना हमेशा फायदेमंद ही साबित हो और अपने स्तर से गिरना हमेशा नुकसान देय हो।

अगर हमने अपने स्तर पर अभिमान खोया, अज्ञान खोया, निंदा ,डर, निराशा, क्रोध खोया हो तो ऐसे स्तर पर गिरना जीवन मे सुख शांति दे जाती है जिसकी हर इंसान को तलाश होती है। इसी तरह हम झूठ, लालच, छल- कपट से समाज मे ऊॅचा उठने की कोशिस मे हम लगातार नकारात्मक विचारो को प्राप्त करते जाएंेगे। और एक दिन अपनी सुख शांति सब लुटा कर बैठ जाएगे।

जिन्दगी के सफर मे इंसान को साहस, हिम्मत, योग्यता, लगन, और मेहनत नही खोना चाहिए क्योकि इसी से उसको मार्यादा, प्रतिष्ठा, कीर्ति, ज्ञान और चरित्र मिलता है। और इन्ही गुणो के दम पर ही वह धनवान बनता है।

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

alkargupta1 के द्वारा
November 15, 2011

बहुत सही कहा है ज़िन्दगी हमें हर पल कुछ न कुछ सीख देती रहती है इस सफ़र में साहस ,हिम्मत ,योग्यता ,लगन और मेहनत जैसे गुणों का होना परमावश्यक है बहुत अच्छा सन्देश देने वाली श्रेष्ठ रचना |


topic of the week



latest from jagran